Sunday, November 25, 2012

गुलाब दुखी


12 comments:

  1. कोमल एहसास लिए हाइकु !

    "ओ गुलाब तू
    बरसेगा सावन
    मुस्कुरा दे तू.." :-)

    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  2. अंतस दुखी ....
    मन मुरझाया सा ....
    हंसी बिछुड़ी ....!!

    बहुत सुंदर हाइगा ....!!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर हायकू/हाईगा

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  4. कौन जाने पीर पराई ...

    ReplyDelete
  5. बहुत भावुक हाइगा !
    इस से मिलेजुले भाव ..........

    खोई खुशबू
    गुलाब पंखरियाँ
    अश्रु नहाई

    हरदीप

    ReplyDelete
  6. ज्योत्स्ना शर्मा07 December, 2012 18:51

    बहुत सुन्दर हाइगा ....!!

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर हाइगा

    ReplyDelete