Saturday, November 3, 2012

सुगन्ध छुपी, ( हाइकु)


रामेश्वर काम्बोज हिमांशु
1
क्षय -पीड़ित
हुआ नील गगन
साँसें उखड़ीं ।
2
तन झुलसा
घायल सीने का भी
छेद बढ़ा है ।
3
कड़ुवा धुँआ
लीलता रात-दिन
मधुर साँसें ।
4
सुरभि रोए
प्राण लूट ले रहीं
विषैली गैसें ।
5
वसुधा -तन
रोम- रोम उतरा
विष हत्यारा ।
6
सुगन्ध छुपी,
पहली वर्षा में जो
दुर्गन्ध उड़ी ।
7
दुर्गन्ध बने
घातक रसायन
माटी  मिलके ।
8
गुलाब दुखी
बिछुड़ी है खुशबू
माटी हो गया ।
9
घास  जो जली
धरा गोद में पली
गौरैया रोए ।
-0-


6 comments:

  1. सच है ..
    प्रकृति का हाल..
    बेहाल है

    ReplyDelete
  2. bahut acche baaw sabhi hiku ke ....

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर क्षणिकायें..

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सही चित्रण आजकल के दूषित वातावरण का...~सभी हाइकू बहुत बहुत बढ़िया !
    सादर !

    ReplyDelete
  5. प्रदूषण की वजह से पर्यावरण कितना दूषित हो रहा है आपके हाइकु इस सामायिक समस्या को बाखूबी बता रहे हैं ।

    सुरभि रोए
    प्राण लूट ले रहीं
    विषैली गैसें ।

    गुलाब दुखी
    बिछुड़ी है खुशबू
    माटी हो गया ।

    गुलाब से खुशबू छिन गई है । अगर जल्दी इस तरफ ध्यान न दिया गया तो वो दिन दूर नहीं जब ये फुल खिलना ही बंद हो जाएँगे ।
    बहुत अच्छा संदेस दे रहे हैं आपके सभी हाइकु !
    हरदीप



    ReplyDelete
  6. http://internationalhindiconfrence.blogspot.in/

    ReplyDelete