Friday, June 1, 2012

खुशबू है आँगन की (माहिया)


 रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'
1
मिलने की मज़बूरी
पास बहुत मन के
फिर कैसी है दूरी
2
बेटी धड़कन मन की
दीपक मन्दिर का
खुशबू है आँगन की
3
आँसू सब पी लेंगे
जो दु:ख तेरे हैं
उनको ले जी लेंगे
4
मन की तुम मूरत हो
जितने रूप मिले
उनकी तुम सूरत हो

12 comments:

  1. आँगन की यह खुशबू हर घर में बनी रहे..

    ReplyDelete
  2. बहुत भावपूर्ण रचनाएँ

    ReplyDelete
  3. वाह! बहुत सुंदर...

    ReplyDelete
  4. आँसू सब पी लेंगे
    जो दु:ख तेरे हैं
    उनको ले जी लेंगे
    पावन संकल्प!
    सुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  5. मिलने की मज़बूरी
    पास बहुत मन के
    फिर कैसी है दूरी

    bahut sundar bhaav...

    ReplyDelete
  6. बहुत ही भावपूर्ण और खूबसूरत माहिया! पावन भाव और सुंदर अभिव्यक्‍ति!

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत सुन्दर.........................

    सादर.

    अनु

    ReplyDelete
  8. एक से बढ़कर एक माहिया !
    मगर ये तो सीधा दिल में उतर गया !

    आँसू सब पी लेंगे
    जो दु:ख तेरे हैं
    उनको ले जी लेंगे

    बहुत बधाई !

    हरदीप

    ReplyDelete
  9. एक से बढ़कर एक माहिया !
    मगर ये तो सीधा दिल में उतर गया !
    बहुत बधाई !

    हरदीप

    ReplyDelete
  10. ज्योत्स्ना शर्मा10 July, 2012 11:50

    सुंदर भावों की बहुत सुंदर अभिव्यक्ति है ....
    बेटी धड़कन मन की
    दीपक मन्दिर का
    खुशबू है आँगन की ...बहुत प्यारा लगा....ज्योत्स्ना

    ReplyDelete
  11. एक अनमोल किताब की तरह है आपका ब्लॉग. सार्थक प्रयास.

    ReplyDelete