Thursday, March 29, 2012

एक सार्थक चित्र


एक सार्थक चित्र
-रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

छोटे-छोटे हाथ
कर सकते हैं बहुत कमाल
एक नक्शा बनाकर
पूरी दुनिया को
उसमें उतार सकते हैं
एक हल्की -सी छुअन
दो प्रेम -पगे शब्द
किसी  के सोए मन में
समन्दर पार करने की
ऊर्जा भर सकते  हैं ।
एक आश्वासन
अपनत्व का महल खड़ा कर देता है
ठीक उसी तरह
जैसे तुम्हारा सजाया
एक सार्थक चित्र
शब्दों को जुबान दे देता है -
कि वे घुलमिलकर बतियाएँ
छोटे बच्चों की तरह खिलखिलाएँ
सारी दुनिया भूलकर
गले लग जाएँ
-0-

24 comments:

  1. मानवता का मार्ग दर्शाती ...सुंदर,सहज...सार्थक पंक्तियाँ ....
    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  2. सच सर....अच्छी कविता है...और भाव बढ़िया....!!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर भाव....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  4. प्रेरक रचना ... बच्चों जैसी मासूमियत हो तो बात ही क्या ॥

    ReplyDelete
  5. एक हल्की -सी छुअन
    दो प्रेम -पगे शब्द
    किसी के सोए मन में
    समन्दर पार करने की
    ऊर्जा भर सकते हैं ।.......उपरोक्त सुंदर प्रस्तुति हेतु आभार..............

    ReplyDelete
  6. छोटे बच्चों की तरह खिलखिलाएँ
    सारी दुनिया भूलकर
    गले लग जाएँ ।sahi kha ....

    ReplyDelete
  7. छोटे बच्चों के लिये क्या सीमायें, क्या संकोच।

    ReplyDelete
  8. अमिता कौंडल30 March, 2012 19:39

    एक हल्की -सी छुअन

    दो प्रेम -पगे शब्द

    किसी के सोए मन में

    समन्दर पार करने की

    ऊर्जा भर सकते हैं ।

    बहुत सुंदर भाव हैं बहुत सही लिखा है अगर इस सच्चाई को समझ कर जीवन मैं उतर लिया जाये तो संसार मैं व्याप्त सारी नफरतें ख़त्म हो जाये.

    बधाई,

    सादर,

    अमिता कौंडल

    ReplyDelete
  9. सहज सार्थक और प्रेरक रचना...आभार!

    ReplyDelete
  10. जैसे तुम्हारा सजाया
    एक सार्थक चित्र
    शब्दों को जुबान दे देता है -
    कि वे घुलमिलकर बतियाएँ
    छोटे बच्चों की तरह खिलखिलाएँ
    बस यही तो नहीं आता हमें बच्चों की तरह खिलखिलाना
    शब्दों का सही हों तो जीवन भर की उर्जा दे जाते हैं आपकी लिखी एक एक पंक्ति में सच्चाई है, भाव है .और रस का बहाव है
    सादर
    रचना

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्‍दर भाव ।

    शब्दों को जुबान दे देता है -
    कि वे घुलमिलकर बतियाएँ
    छोटे बच्चों की तरह खिलखिलाएँ
    सारी दुनिया भूलकर
    गले लग जाएं ।
    बहुत सुन्‍दर ।

    ReplyDelete
  12. इतने सरल शब्दों में सुन्दर भाव पिरो कर प्रेरणा देने वाली रचना .बहुत सुन्दर .

    ReplyDelete
  13. एक हल्की -सी छुअन
    दो प्रेम -पगे शब्द
    किसी के सोए मन में
    समन्दर पार करने की
    ऊर्जा भर सकते हैं ।
    वाह बहुत हीं सुन्दर...

    ReplyDelete
  14. एक से एक सुन्दर भावों भरी पंक्तियां क्या खूब लिखा है...बधाई
    सादर
    कृष्णा वर्मा

    ReplyDelete
  15. अपनत्व के महल में ऐसा अनूठा चित्रण आप ही कर सकते हैं ... एक हल्की -सी छुअन
    दो प्रेम -पगे शब्द
    किसी के सोए मन में
    समन्दर पार करने की
    ऊर्जा भर सकते हैं ।
    एक आश्वासन
    अपनत्व का महल खड़ा कर देता है

    ReplyDelete
  16. एक सार्थक चित्र
    शब्दों को जुबान दे देता है -
    कि वे घुलमिलकर बतियाएँ
    छोटे बच्चों की तरह खिलखिलाएँ
    सारी दुनिया भूलकर
    गले लग जाएँ ।
    बहुत हि सुन्दर भाव........
    एक चित्र जो शब्दो को जुबान दे.... ऐसा कौन कलाकर है जो बना सकता है .... मेरी नजर मे तो एक ही है... ऐसा अनूठा चित्रण आप ही कर सकते हैं
    बधाई !

    हरदीप

    ReplyDelete
  17. bahut sunder kavita hai Himanshu ji..mujhe apni kavitayen yaad aa gayi

    ReplyDelete
  18. नन्हें हाथों में होता ही है ऐसा जादू... कर सकता है ऐसा कमाल. सुन्दर मन पूरी दुनिया को एक चित्र में कर देता है साकार...

    छोटे-छोटे हाथ
    कर सकते हैं बहुत कमाल
    एक नक्शा बनाकर
    पूरी दुनिया को
    उसमें उतार सकते हैं ।

    सुन्दर भाव चित्रण के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  19. छोटे-छोटे हाथ
    कर सकते हैं बहुत कमाल
    एक नक्शा बनाकर
    पूरी दुनिया को
    उसमें उतार सकते हैं ।
    एक हल्की -सी छुअन
    दो प्रेम -पगे शब्द
    किसी के सोए मन में
    समन्दर पार करने की
    ऊर्जा भर सकते हैं

    sakaratmak urja se bharpur prerna dayak rachna...

    kaha jata hai ki "rachnaon me rachnakar ka vyaktitva jhalakta hai..." apki rachnao par yah kathan purn roop se khara utarta hai... aap swayam jitne sakaratmak vyaktitva ke dhani hain.. vaisi hi apki rachnaye bhi hain.

    ReplyDelete
  20. आप सबका बहुत -बहुत आभार ! आप सबके शब्द हमेशा मुझे ताकत देते हैं।

    ReplyDelete
  21. छोटे-छोटे हाथ कर सकते हैं बहुत कमाल
    सोच सशक्तता से शब्दों में दिखाई देती है और संचारित भी करती है॥
    राह रौशन हो आने वालों की
    हम चरागों में खून भरते हैं
    बहुत ही दाद के साथ

    ReplyDelete
  22. Bahut sundar bhav bahut achchha laga nanhe bhav pqdhkar..

    ReplyDelete
  23. ज्योत्स्ना शर्मा04 April, 2012 21:25

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति आपकी ....मासूम भाव नन्हे अक्षरों की पलकें झपका कर कुछ कहते हुए से .....बहुत बधाई...!

    ReplyDelete