Tuesday, January 17, 2012

आँसू तुम्हारे(हाइकु)


रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’
1
आँसू तुम्हारे
भिगो गए आँगन
मेरे मन का ।
2
देखे न जाएँ
अपनों के  ये आँसू
खूब रुलाएँ
3
पोंछ दूँ नैन
मिल  जाए मन को
दो पल चैन
4
तुमने जोड़ा
ऐसा प्यारा ये  नाता
जीना सिखाता
5
तुम न आतीं
मन के मन्दिर में
जले न बाती
6
मेरी हथेली
तेरे भीगे नयन
लाओ पोंछ दूँ
-0-

12 comments:

  1. बहुत कोमल भाव लिए सुन्दर हाईकू रचनाएँ ..

    मोती सा आंसू
    पलकों पे अटका
    सहेज लूँ मैं ..

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति । एक-एक शब्द समवेत स्वर में बोल रहे हैं । मेरे पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  3. सुंदर एवं भावपूर्ण हाइकुओं के लिए बधाई एवं आभार!

    ReplyDelete
  4. इन कठिन भावों को तीन तीन पंक्तियों में सम्हाल पाना बड़ा ही कठिन है..

    ReplyDelete
  5. तुमने जोड़ा
    ऐसा प्यारा ये नाता
    जीना सिखाता...

    Sabhi haiku bahut pyari bhavnaon se ot prot hain.Sabhi ke bhav bahut komla hain.ye haiku bahut apnatv se bhara hai.bahut2 badhai.

    ReplyDelete
  6. सभी हायेकु रचनाएँ बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  7. मेरी हथेली
    तेरे भीगे नयन
    लाओ पोंछ दूँ...bahut sundar...

    ReplyDelete
  8. पोंछ दूँ नैन
    मिल जाए मन को
    दो पल चैन

    भाव, तुक, लय सब समाए हैं इन नन्हीं पंक्तियों में ... यही तो है गागर में सागर |

    ReplyDelete
  9. sabhi haaiku behad bhaavpurn..
    देखे न जाएँ
    अपनों के ये आँसू
    खूब रुलाएँ

    shubhkaamnaayen.

    ReplyDelete
  10. आँसुओं पर बहुत ही सुन्दर हाइकु…पहले हाइकु ने तो दिल जीत लिया…

    ReplyDelete
  11. आँसू तुम्हारे
    भिगो गए आँगन
    मेरे मन का

    वैसे तो सभी हाइकू सुंदर हैं... लेकिन इसका काव्य एवं भाव सौन्दर्य तो बस अनुपम है
    सादर
    मंजु

    ReplyDelete