Tuesday, December 20, 2011

काँच के घर ( ताँका)


छाया:हिमांशु

रामेश्वर काम्बोज हिमांशु
1
काँच के घर
बाहर सब देखे
भीतर है क्या
कुछ न दिखाई दे
न दर्द सुनाई दे ।


2
काँच के घर
काँपती थर-थर
चिड़िया सोचे-
हवा तक तरसे
जाऊ कैसे भीतर।
3
छाया: हिमांशु
बिछी है द्वार
बर्फ़ की ही चादर
काँच के जैसी
चलना सँभलके
गिरोगे फिसलके ।

5 comments:

  1. काँच के घर के माध्यम से गूढ़ तथ्य कह गयी पोस्ट!

    ReplyDelete
  2. बाहर अन्दर, बस काँच का झीना अन्तर..

    ReplyDelete
  3. गहन अभिव्यक्ति ... कांच के घर प्रकृति से दूर कर देते हैं

    ReplyDelete
  4. काँच का घर

    बहुत सुंदर, बेहद खूबसूरत !
    शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  5. काँच के घर
    बाहर सब देखे
    भीतर है क्या
    कुछ न दिखाई दे
    न दर्द सुनाई दे ।

    Bahut gahrai hai in paktiyon men ...ye aapke ghar ka photo hai na?

    ReplyDelete