Wednesday, December 14, 2011

आती न पाती(हाइकु)


रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’
1

आती न पाती
हूक -सी उठ तेरी
याद रुलाती

2
घायल पाखी
उड़ा न गगन में
मिलता कैसे

3
सागर पार
बिन कश्ती कठिन
ज्यों इन्तज़ार।

4
जीवन-साँझ
सिमट गई धूप
बची है रात।

6 comments:

  1. आती न पाती
    हूक -सी उठ तेरी
    याद रुलाती...

    Dil ko jhkjhordene vaala haiku...

    सागर पार
    बिन कश्ती कठिन
    ज्यों इन्तज़ार।

    Bahut khubsurat...

    जीवन-साँझ
    सिमट गई धूप
    बची है रात।

    jeevn ko saanjh ke saath jodkar uska pura hi art samjha diya hai chhote se haiku ne...bahut2 badahi..

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन प्रस्तुती.....

    ReplyDelete
  3. रात बची पर बात बची है..

    ReplyDelete
  4. जीवन-साँझ
    सिमट गई धूप
    बची है रात। \ सभी हाईकु बहुत कमाल के हैं। मै भी जल्दी ही आती हूँ फिर उसी फार्म मे और भेजती हूँ कुछ हाइकु। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  5. आदरणीय महोदय
    बहुत सुन्दर हाइकू हैं
    जीवन संध्या का चित्रण्र कमाल का है
    बधाई

    ReplyDelete