Wednesday, December 7, 2011

झरना बहाएँगे (ताँका)


झरना बहाएँगे (ताँका)
-रामेश्वर काम्बोज हिमांशु
1
किसे था पता-
ये दिन भी आएँगे
अपने सभी
पाषाण हो जाएँगे
चोट पहुँचाएँगे।
2
जीवन भर
रस ही पीते रहे
वे तो जिए
हम तो मर-मर
घाव ही सीते रहे।
3
वे दर्द बाँटें
बोते रहे हैं काँटे
हम क्या करें?
बिखेरेंगे मुस्कान
गाएँ फूलों के गान।
4
काटें पहाड़
झरना बहाएँगे
भोर लालिमा
चेहरे पे लाएँगे
सूरज उगाएँगे ।
5
उदासी -द्वारे
भौंरे गुनगुनाएँ
मन्त्र सुनाएँ-
जब तक है जीना
सरगम सुनाएँ।
6
ओ मेरे मन !
तू सभी से प्यार की
आशा न रख
पाहन पर दूब
कभी जमती नहीं ।
7
मन के पास
होते वही हैं खास
बाकी जो बचे
वे ठेस पहुँचाते
तरस नहीं खाते
8
ये सुख साथी
कब रहा किसी का
ये हरजाई
थोड़ा अपना दु:ख
तुम मुझको दे दो।
9
पीर घटेगी
जो तनिक तुम्हारी
मैं हरषाऊँ
तेरे सुख के लिए
दु:ख गले लगाऊँ ।
-0-

23 comments:

  1. ओ मेरे मन !
    तू सभी से प्यार की
    आशा न रख
    पाहन पर दूब
    कभी जमती नहीं ।........jivan ki ye sachhai jitni jaldi samajh aaye,man utna hi kam dukhega.....bahut sundar aur jeevan-satya......

    ReplyDelete
  2. थोड़ा अपना दु:ख
    तुम मुझको दे दो।
    इस भाव से बढ़कर विशिष्ट कुछ और हो नहीं सकता.. ये बात और है कि किसी का दर्द हम बाँट भले सकते हैं ले नहीं सकते...
    आपकी इस पोस्ट से गुजरना बेहद सुखद रहा!
    अतिसुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  3. बहुत ही खुबसूरत और कोमल भावो की अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  4. हम सदा ही मुस्कान बिखेरते रहेंगे।

    ReplyDelete
  5. 1
    किसे था पता-
    ये दिन भी आएँगे
    अपने सभी
    पाषाण हो जाएँगे
    चोट पहुँचाएँगे।
    2
    जीवन भर
    रस ही पीते रहे
    वे तो जिए
    हम तो मर -मर
    घाव ही सीते रहे।

    Pura hi dard or sachchhai simat kar aa gayi hai in panktiyon men yahi jeevan ka satay hai.

    ReplyDelete
  6. 1
    किसे था पता-
    ये दिन भी आएँगे
    अपने सभी
    पाषाण हो जाएँगे
    चोट पहुँचाएँगे।
    2
    जीवन भर
    रस ही पीते रहे
    वे तो जिए
    हम तो मर -मर
    घाव ही सीते रहे।

    बहुत दर्द भरे हैं इन पंक्तियों में
    आदरणीय सर,आपने अपने ब्लौग पर लिखा है कि
    जब सोचना है तो सकारात्मक ही सोचें।
    यहाँ भी आपने सकारात्मक ही सोचा है|

    सादर

    ReplyDelete
  7. सभी ताँका बहुत ही भावपूर्ण हैं ..........मुझे सबसे अच्छा ये लगा ..........
    ये सुख साथी
    कब रहा किसी का
    ये हरजाई
    थोड़ा अपना दु:ख
    तुम मुझको दे दो।

    ये वही कह सकता है या कर सकता है जो दूसरों के दुःख को अपना समझे !
    हरदीप

    ReplyDelete
  8. himanshu ji

    is vidha ki taknik ke karan kavita sahaj ban gayee hai
    मन के पास
    होते वही हैं खास
    बाकी जो बचे
    वे ठेस पहुँचाते
    तरस नहीं खाते
    madhu MM

    ReplyDelete
  9. पीर घटेगी
    जो तनिक तुम्हारी
    मैं हरषाऊँ
    तेरे सुख के लिए
    दु:ख गले लगाऊँ । kavita ki antim paktiya dil ko chhooti hai
    madhu MM

    ReplyDelete
  10. अमिता कौंडल10 December, 2011 02:12

    किसे था पता-
    ये दिन भी आएँगे
    अपने सभी
    पाषाण हो जाएँगे
    चोट पहुँचाएँगे।
    2
    जीवन भर
    रस ही पीते रहे
    वे तो जिए
    हम तो मर -मर
    घाव ही सीते रहे।
    6
    ओ मेरे मन !
    तू सभी से प्यार की
    आशा न रख
    पाहन पर दूब
    कभी जमती नहीं ।
    7
    मन के पास
    होते वही हैं खास
    बाकी जो बचे
    वे ठेस पहुँचाते
    तरस नहीं खाते

    भाईसाहब बहुत सुंदर तांका हैं यह चार तो मन को छू गए. बधाई.............
    सादर,
    अमिता कौंडल

    ReplyDelete
  11. सर आप के द्वारा लिखी हर पंक्ति भावो भरी होती हैं । बहुत सुन्‍दर ।
    हर शब्‍द भावों भरा होता है।

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    कल 14/12/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, मसीहा बनने का संस्‍कार लिए ....

    ReplyDelete
  13. ओ मेरे मन !
    तू सभी से प्यार की
    आशा न रख
    पाहन पर दूब
    कभी जमती नहीं ।

    सभी रचनाएँ सुन्दर हैं ...हम जैसे नौसिखियों के लिए एक पाठशाला है आपका ब्लॉग

    ReplyDelete
  14. sabhi taanka,sabhi rachnaayen bahut pasand aai.

    ReplyDelete
  15. सभी तांका गहन बात को लिए हुए ...

    ReplyDelete
  16. सोचा कि कुछ पंक्तियों को select कर के कुछ लिखूं
    लेकिन आपने असमर्थ कर दिया हर जगह..किसी एक को चुनुं तो दूसरी के साथ नाइंसाफी होगी...
    सारी ही क्षणिकाएं अपने आप में सुन्दर हैं
    सुन्दर रचना के लिए बधाई...!!

    ReplyDelete
  17. Ek se badhke ek hain sabhee kshanikayen! Kamaal ka lekhan hai!

    ReplyDelete
  18. अद्भुत रचनाएं हैं सर...
    सादर...

    ReplyDelete
  19. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति

    ReplyDelete