Wednesday, November 16, 2011

एक उदास लड़की के लिए


एक उदास लड़की के लिए
छाया:रोहित काम्बोज
रामेश्वर काम्बोज हिमांशु
आँधी आई धूल उड़ाती
पेड़ों के कान मरोड़ती ,
उन पेड़ों के
जो धरती की छाती पर
पैर रखकर बरसों से खड़े थे
धरती में बहुत गहरे गड़े थे,
डालियाँ झकझोरतीं
टहनियों की बाहें मरोड़ती ;
पेड़ कराह उठे
कुछ जड़  से उखड़ गए
कुछ की डालियाँ झूल उठी
टूट गईं
कुछ की नई टहनियाँ
कुछ ही झोकों में रूठ गईं
देखते ही देखते
हरे -भरे उपवन उजड़ गए।
पत्ते -
कुछ झोंको में झड़ गए ,
नन्हीं -सी घास
आँधी की मार से हर बार
झोंकों के सामने सिर झुका लेती
तूफ़ान टकराता
साँड की तरह डकराता
लाल -लाल आँखे किए
धूल के गुबार उड़ाता
घास मुस्कराती,
बार -बार लचक जाती
अन्धड़ हो जाता पसीने -पसीने
और वह नन्हीं -सी निमाणी -सी घास
ज़मीन की सतह तक झुककर भी
छाया:रोहित काम्बोज
तूफ़ान के गुज़र जाते ही
उठकर खड़ी हो जाती
इस तरह
वह नन्हीं-सी निमाणी -सी घास
बड़े -बड़े दरख्तों से
बड़ी हो जाती ।
तूफ़ान के थमते ही
आ जाती नन्हीं -सी गिलहरी
पा जाती कुछ दाना-पानी ;
खिड़की के पास बैठी
गूगल से साभार
उदास लड़की
देखती यह सब एकटक
उदासी की धूल झाड़कर
हौले से मुस्करा देती
सुबह की दूब पर बिखरी
ओस की तरह !
-0-

26 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर कविता.. बहुत दिनों के बाद कुछ बहुत अच्छा सा पढ़ने को मिला... शब्द, भाव, और रवानी... सब का इतना सुन्दर संगम है इस कविता में कि पढ़ कर मन प्रसन्न हो गया. बहुत सुन्दर सन्देश दिया है अपने इस कविता के माध्यम से .. सदा तने रहना ही काम नहीं आता.. जीवन में यथा-स्थान लचकीला भी होना पड़ता है. तभी तो नन्ही निमाणी सी दूब का भयंकर आंधी कुछ नहीं बिगाड़ पाई..

    सादर

    मंजु

    ReplyDelete
  2. हौले से मुस्करा देती
    सुबह की दूब पर बिखरी
    ओस की तरह !
    bhaiya ye sunder bhavon se bhari mohak pamktiyan hai puri kavita me bhav bahut hi sunder hain
    saader
    rachana

    ReplyDelete
  3. bahut hi sundar ....really nice

    ReplyDelete
  4. आदरणीय रामेश्वर जी,
    यह कविता ही नहीं ये तो जिन्दगी है | तूफ़ान जब आता है जिन्दगी में सब कुछ तबाह कर देता है ...लेकिन आशा कहीं न कहीं जिन्दा रहती है ...नन्हीं घास के रूप में | सही मार्ग दिखाया है आपने एक उदास लड़की को ......जो चाहते हुए भी पहले हौसला बटोर नहीं पा रही थी | लेकिन घास को देखने और समझने की क्षमता इस कविता में साफ झलकती है | जिन्दगी का आईना धुंधला पड़ जाता है , जिसे समय समय पर अगर साफ न किया जाए तो हौसला बिखर जाता है | ये आईना इस कविता ने साफ कर दिया ....जीने की चाह लिए हुए ये कविता लिखने वाली कलम को शत-शत नमन !

    हरदीप

    ReplyDelete
  5. खिड़की के पास बैठी
    उदास लड़की
    देखती यह सब एकटक
    उदासी की धूल झाड़कर
    हौले से मुस्करा देती
    सुबह की दूब पर बिखरी
    ओस की तरह !

    उदासी की धूल - एकदम नया प्रयोग और बहुत खूबसूरत प्रयोग है बहुत पंसद आया। रचना के भाव बहुत अच्छे लगे इतनी प्यारी रचना के लिये आपको हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete
  6. Rameshvar ji aapki kavita bahut khoobsoorat hai...ek bachhi kee bhavnaein aur positivity kamal ki hai.
    उदास लड़की
    देखती यह सब एकटक
    उदासी की धूल झाड़कर
    हौले से मुस्करा देती
    सुबह की दूब पर बिखरी

    ReplyDelete
  7. निश्चय ही उदासी दूर होगी..

    ReplyDelete
  8. खिड़की के पास बैठी
    उदास लड़की
    देखती यह सब एकटक
    उदासी की धूल झाड़कर
    हौले से मुस्करा देती
    सुबह की दूब पर बिखरी
    ओस की तरह !
    बहुत सुन्दर नए प्रतीकों से सजी सार्थक पोस्ट...नन्हीं घास ,गिलहरी,ओस और उदास लड़की इन का बहुत सुन्दर समन्वय हुआ है ....बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं ....
    डा. रमा द्विवेदी

    ReplyDelete
  9. ज़िंदगी को कहती अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  10. ब्लॉग तक पहुंच ही गई. पढा.देखा यह तो मैं हूँ......... खिडकी के उस पार बैठी उदास लड़की.जो नही जानती कि वो उदास क्यूँ है???अपने भीतर उगी नन्ही घास को देखती है कभी....... उन काँटों को जो बिखरे है हर किसी के भीतर.उनको कोई नही छेड़ता.हर कोई पैरों के तले दबा देता है कोमल घास को हा हा हा कहती है 'तुम नही बदल सकते खुद को तो क्यों बदल दूँ मैं अपने आपको.
    सचमुच बहुत पहले पढ़ी दरख्त और घास की यह वक्ताव्य को काव्य रूप मे और उदास लड़की के माध्यम से आपने बहुत अच्छा लिखा है.

    ReplyDelete
  11. आपने सुन्दर शब्दों और ख़ूबसूरत चित्रों के साथ भावपूर्ण रचना लिखा है जिसकी तारीफ़ के लिए अल्फाज़ कम पर गए! अद्भुत सुन्दर प्रस्तुती! बहुत बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  12. Bahut,bahut sundar rachana!

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुन्दर भाव सजे हैं इस कविता में-वह छोटी उदास लड़की प्रकृति की उपमाओ के साथ घुल मिल गई है,घास और गिलहरी की फोटो बहुत सुन्दर है...बधाई|

    ReplyDelete
  14. jhuk jane wala sada sukoon pata hai. ye udas ladki bhi us ghaas ko dekh shayad sukoon dhoond le.

    ReplyDelete
  15. बहुत ही खुबसूरत अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  16. एक ऐसी कविता जिसमें जीवन के संघर्ष की भी गूंज सुनाई पड़ती है। तूफान आते हैं और चले भी जाते हैं, तबाही के निशान छोड़कर पर जीवन कहां थमता है… बधाई !

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर भावाव्यक्ति!
    बहुत-बहुत शुभकामनाएं...अल्लाह करे और हो जोर-ए-कलम ज्यादा...
    अब तो आपके ब्लॉग को बराबर देखना होगा!

    ReplyDelete
  18. उदासी की धूल झाड़कर
    हौले से मुस्करा देती
    सुबह की दूब पर बिखरी
    ओस की तरह !
    यह मुस्कराहट ही उसकी संजीवनी है!

    ReplyDelete
  19. ज़िंदगी को कहती अच्छी प्रस्तुति....सुन्दर रचना.....

    ReplyDelete
  20. घास मुस्कराती,
    बार -बार लचक जाती.हमें घास से सीख लेनी चाहिये।बहुत अच्छी प्रस्तुति।धन्यवाद।

    ReplyDelete
  21. Your thoughts are reflection of mass people. We invite you to write on our National News Portal. email us
    Email us : editor@spiritofjournalism.com,
    Website : www.spiritofjournalism.com

    ReplyDelete
  22. अमिता कौंडल19 November, 2011 04:53

    जीवन संघर्ष में जो धैर्य और सदा नीमे रहने का जो गुण है और वही गुण जीवन की सफलता का मार्ग भी है और कारण भी है उसी गुण को भाईसाहब आपने इस कविता में प्रकृति के जरिये बहुत ही सुन्दरता से व्यक्त किया है. बहुत ही सुंदर कविता है. सुंदर सन्देश देती हुई. बधाई.........
    सादर,
    अमिता कौंडल

    ReplyDelete
  23. हौले से मुस्करा देती
    सुबह की दूब पर बिखरी
    ओस की तरह !
    आशा जगाती एक भावपूर्ण, सुन्दर कविता...। बहुत बधाई...।

    ReplyDelete
  24. udaas ladki jo jivan ki saakshi hai, aandhi toofaan ko jhelti hui shaant baithi hai, aur fir aandhi ke gujarne ke baad muskuraati hai...jaanti hai aandhi hai jise gujarna hin hai, prakriti ka niyam jivan chalna hin hai...sandeshprad rachna, shubhkaamnaayen.

    ReplyDelete