Tuesday, October 25, 2011

जीवन के अँधेरों में



11 comments:

  1. खुशियाँ ही जग को मिलें
    मुस्कान के फूल खिलें
    थोड़ी-सी रौशनी बचाए रखना...

    in pakntiyon men pura hi sandesh sama gaya hai,iska paaln kiya jaye to eak khubsurat samaj ka janm hoga...aapko dipavali hi hardik shubkamnayen...

    ReplyDelete
  2. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें…

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर सन्देश देती रचना

    दीपावली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  4. जीवन के अधेरों में
    सभी द्वारे दीपक जलाए रखना
    खुशियाँ ही जग को मिलें
    थोड़ी-सी रौशनी बचाए रखना|

    दीपावली के शुभ अवसर पर बहुत ही सार्थक संदेश है|
    आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति...दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. थोड़ी सी रोशनी बचाए रखना. क्या बात है. दीपोत्सव की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  7. deepawali ko saarthak karti bahut sundar sandeshprad rachna, badhai, deepawali kee shubhkaamnaayen.

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रस्तुति
    दिवाली, भाई दूज और नव वर्ष की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. जीवन के अधेरों में
    सभी द्वारे दीपक जलाए रखना
    खुशियाँ ही जग को मिलें
    थोड़ी-सी रौशनी बचाए रखना|
    bahut hi sunder shashaon bhari kavita
    asha hai to sab kychh hai
    saaader
    rachana

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर संदेश मिला आपकी रचना से
    दिवाली का पर्व आता है ...हम एक दूसरे को बधाई देते हैं ..अच्छा है ..बहुत अच्छा ...लेकिन ...याद रहे किसने किसको मन से बधाई दी ....
    हृदय बोले
    शुभकामना जब
    है दीपोत्सव
    हरदीप

    ReplyDelete