Wednesday, August 10, 2011

जंगल को गाने दो( हाइकु)


जंगल को गाने दो( हाइकु)

डॉ सुधा गुप्ता
1
मनमौजी है
जंगल को गाने दो
अपना गीत
2
हरे पन्ने पे
रचते आरण्यक
ये वन -ॠषि
3
इन्हें न काटो
पावन वेद-ॠचा-
सी यह सृष्टि
4
ममतामयी
जड़-चेतन प्रति
वत्सल दृष्टि
5
तृषा बुझाने
इनके कारण ही
होती  है वृष्टि
6
गीत बुनती
गहरे सन्नाटे में
कोई गौरैया
7
बोल उठता
अचानक मस्ती में
वो पपीहरा
 8
असंख्य जीव
पाते हैं संरक्षण
इनकी गोद
9
कस्तूरी मृग
निर्भय विचरण
मनाते मोद
10
मत उजाड़ो
सबको कुछ देता
कुछ न लेता
11
कभी न छीनो
वन्य जीवों का घर
भू रही चेता
12
स्वाधीन ,मुक्त
स्वयं की मस्ती डूबा
सबका मीत
13
आत्मविभोर
प्रभु-भक्ति में लीन
सबसे प्रीत
14
मनमौजी है
जंगल को गाने दो
अपना गीत
-0-

[चित्र: रोहित काम्बोज और अंजना काम्बोज ]

13 comments:

  1. गीत बुनती
    गहरे सन्नाटे में
    कोई गौरैया

    बोल उठता
    अचानक मस्ती में
    वो पपीहरा..
    वाह ! बहुत खूब लिखा है आपने! बोलती हुई चित्र! शानदार फोटोग्राफी! ख़ूबसूरत चित्र के साथ साथ लाजवाब हाइकु ! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  2. इन्हें न काटोपावन वेद-ॠचा-सी यह सृष्टि 4ममतामयीजड़-चेतन प्रतिवत्सल दृष्टि5तृषा बुझाने इनके कारण हीहोती वृष्टि

    ReplyDelete
  3. डा.रमा द्विवेदी
    सभी हाइकु अति सुन्दर ,अति सहज और सरल शब्दों में अभिव्यक्ति ..... आदरणीय डा. सुधा जी की लेखनी को नमन ....

    ReplyDelete
  4. इन्हें न काटोपावन वेद-ॠचा-सी यह सृष्टि 4ममतामयीजड़-चेतन प्रतिवत्सल दृष्टि5तृषा बुझाने इनके कारण हीहोती वृष्टि

    Bahut Acchhe.

    ReplyDelete
  5. इन्हें न काटो
    पावन वेद-ॠचा-
    सी यह सृष्टि

    तृषा बुझाने
    इनके कारण ही
    होती वृष्टि

    पूजनीया सुधा गुप्ता जी को सादर नमन
    सुन्दर हाइकु के साथ सुन्दर फ़ोटोग्राफ़ी...सोने में सुहागा...

    ReplyDelete
  6. चित्रण की छटा बिखेरते हाईकू।

    ReplyDelete
  7. मत उजाड़ो
    सबको कुछ देता
    कुछ न लेता
    kitna sahi likha hai sudh ji ke haiku hamesha naye paridhan me sunder bhavon ko samete huye hote hain .
    मनमौजी है
    जंगल को गाने दो
    अपना गीत
    adbhud
    saader
    rachana

    ReplyDelete
  8. शब्दों से जंगल रचते खूबसूरत हाइकु....

    ReplyDelete
  9. sabhi haaiku bahut umdaa hain...
    मनमौजी है
    जंगल को गाने दो
    अपना गीत

    मत उजाड़ो
    सबको कुछ देता
    कुछ न लेता

    aadarniya Sudha ji ko bahut badhai.

    ReplyDelete
  10. मनमौजी है
    जंगल को गाने दो
    अपना गीत...
    geet bahut............acha laga javab nahi sudhaji ka....bahut2 badhai..

    ReplyDelete
  11. Sabhi haiku bahut hi sunder hain. Saath mein chitra bhi bahut umda hain.

    Manmauji hai
    jangal ko gaane do
    apna geet.

    Bahut pasand aaya. Bahut badhaai

    Regards.

    ReplyDelete