Sunday, August 7, 2011

मित्रता- दिवस


1.
प्रभु मिलाए
तभी तो जीवन में
दोस्त आ जाएँ
2.
रिश्तों से परे
प्राणों में समा जाए
मीत का प्यार
3.
कोई न नाम
इतना रहा ऊँचा
जितना दोस्ती
 4.
गर्म रेत की
मीत सूखे खेत की
है जलधार

5.
दोस्ती का हाथ
बीच मझधार में
है पतवार
6.
समझे सारी
बातें दु:ख -दर्द की
बिना बताए
7.
लुटाता सदा
वो प्यार बेशुमार 
ज्यों रस-धार
-रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

15 comments:

  1. khoobsoorat kshanikayen...mitrata diwas par ....
    http://anupamassukrity.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. मित्रता पर सुन्दर क्षणिकायें।

    ReplyDelete
  3. मित्रता दिवस पर प्रस्तुत सुंदर हाइकु.... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. दोस्ती का हाथ
    बीच मझधार में
    है पतवार
    sahi bas parakhna aana chahiye hai na ?
    प्रभु मिलाए
    तभी तो जीवन में
    दोस्त आ जाएं
    ji sahi kaha aapne ye bahut hi bhagya ki baat hai
    dono jagaha aap ke haiku tapti dhup me chhate ke saman hai
    bahut bahut badhai
    rachana

    ReplyDelete
  5. मित्रता दिवस पर आपने बहुत सुन्दर हाइकु लिखा है ! खासकर मुझे ये दोनों हाइकु सबसे अच्छा लगा!
    दोस्ती का हाथ
    बीच मझधार में
    है पतवार...
    समझे सारी
    बातें दु:ख-दर्द की
    बिना बताए...
    मित्रता दिवस की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  6. सारे हाइकु मित्र को परिभाषित करते हुए अच्छे लगे|
    Happy Friendship Day

    ReplyDelete
  7. bhaut hi sundar friendshipday par kavita...

    ReplyDelete
  8. मित्रता पर बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...!

    ReplyDelete
  9. समझे सारी
    बातें दु:ख -दर्द की
    बिना बताए

    dost aise hin to hote hain. sabhi haaiku bahut achhe lage. shubhkaamnaayen.

    ReplyDelete
  10. dosti per likhi sunder prastuti.badhaai aapko.

    "ब्लोगर्स मीट वीकली {३}" के मंच पर सभी ब्लोगर्स को जोड़ने के लिए एक प्रयास किया गया है /आप वहां आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। सोमवार ०८/०८/११ को
    ब्लॉगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं।

    ReplyDelete
  11. मित्रता दिवस पर बहुत भावपूर्ण हाइकु हैं आपके। बधाई !

    ReplyDelete