Monday, June 20, 2011

खिल गए फूल पलाश के !



रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

निर्जल घाटी के सीने पर
आखर लिख दिये प्यास के ।
जंगल में भी शीश उठाकर
खिल गए फूल पलाश के ।


निर्गन्ध कहकरके ठुकराया
मन की पीर नही जानी 
छीनी किसने सारी खुशबू
बात न इतनी पहचानी
इसकी भी साथी थी खुशबू
दिन थे कभी मधुमास के ।
पाग आग की सिर पर बाँधे
कितना कुछ यह सहता है
तपता है चट्टानों में भी
कभी नहीं कुछ कहता है
सदियाँ बीती पर न बीते
अभागे दिन संन्यास के ।
यह योगी का बाना पहने
बस्ती में ता कैसे ?
कितना दिल में राग रचा है
 सबको बतलाता कैसे ?
धोखा इसने जग से खाया
जल गए   अंकुर आस के ।
इसकी पीड़ा एकाकी थी
सुनता क्या बहरा जंगल
इसके  आँसू दिखते कैसे
मिलता कैसे इसको जल
न बुझी प्यास मिली जो इसको
न बीते दिन  बनवास के ।
-0-
[फोटो:गूगल से साभार]




22 comments:

  1. व्यथा का बहुत सुंदर वर्णन......

    ReplyDelete
  2. गीत के रूप में एक बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ! बधाई !

    ReplyDelete
  3. पाग आग की सिर पर बाँधे
    कितना कुछ यह सहता है
    तपता है चट्टानों में भी
    कभी नहीं कुछ कहता है
    सदियाँ बीती पर न बीते
    अभागे दिन संन्यास के ।
    bhavon ki unchai shbdon ke badal pr savar .
    kya sunder geet hai lajavab .
    palash pr likha ek uttam geet
    saader
    rachana

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर कविता आपका बहुत शुक्रिया साझा करने के लिए

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .....
    पलाश के फूल खिल गए थे जंगल में...योगी का बाना पहने.... मगर .. प्यास न बुझी...न संन्यास के दिन बीते..
    कितना सुंदर वर्णन है पलाश के फूल का !

    ReplyDelete
  6. पलाश की पीढ़ा की इतनी सुंदर अभिव्यक्ति पहली बार पढ़ी। बहुत अच्छा लिखते हैं आप। इसी तरह और भी रचनाएं देते रहें।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर रचना पलाश के फूलों पर ..

    ReplyDelete
  8. निर्गन्ध कहकरके ठुकराया
    मन की पीर नही जानी
    छीनी किसने सारी खुशबू
    बात न इतनी पहचानी...........
    itni khubsurati se palaash ki antaraatmaa ko laakar shabdon men savana hai ki tareef ke liye shabd hi nahi bache....bahut hi khubsurat andaaj kahne ka...aapki lekhni ko dheron badhai...

    ReplyDelete
  9. प्रणाम !
    मन पुलकित हो गया गीत पढ़ कर ! बेहद सुंदर ! बधाई !
    सादर !

    ReplyDelete
  10. पाग आग की सिर पर बाँधे
    कितना कुछ यह सहता है
    तपता है चट्टानों में भी
    कभी नहीं कुछ कहता है
    सदियाँ बीती पर न बीते
    अभागे दिन संन्यास के ।
    इनकी व्यथा कवि मन ही जान सकता है। बहुत सुन्दर शब्द दिये हैं व्यथा को भी। बधाई इस रचना के लिये।

    ReplyDelete
  11. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! बेहद पसंद आया!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  12. धोखा इसने जग से खाया
    जल गए अंकुर आस के ।
    इसकी पीड़ा एकाकी थी
    सुनता क्या बहरा जंगल
    इसके आँसू दिखते कैसे
    मिलता कैसे इसको जल
    न बुझी प्यास मिली जो इसको
    न बीते दिन बनवास के ।

    bahut hi achhi rachna..badhai..
    mere bhi blog me aaye..
    www.pradip13m.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. पाग आग की सिर पर बाँधे
    कितना कुछ यह सहता है
    तपता है चट्टानों में भी
    कभी नहीं कुछ कहता है
    hriday ko cheer, nikali hai peer... palaash ko kavi ne aasuon se seencha hai...

    ReplyDelete
  14. पीड़ा की अभि्व्यक्ति बहुत ही सुंदर ढंग से की गई है ।
    सुधा भार्गव

    ReplyDelete
  15. निर्गन्ध कहकरके ठुकराया
    मन की पीर नही जानी
    छीनी किसने सारी खुशबू
    बात न इतनी पहचानी...

    इसकी पीड़ा एकाकी थी
    सुनता क्या बहरा जंगल
    इसके आँसू दिखते कैसे
    मिलता कैसे इसको जल...

    पलाश का फूल...क्या महसूस होता है जब कोई ठुकरा दिया जाता है और वह अपनी मनोव्यथा बता भी नहीं पाता...???
    बहुत मार्मिक और सुन्दर अभिव्यक्ति...मेरी बधाई स्वीकारे और साथ ही इतनी सुन्दर रचना हमारे साथ सांझा करने के लिए धन्यवाद भी...|

    ReplyDelete
  16. निर्जल घाटी के सीने पर

    आखर लिख दिये प्यास के ।

    पाग आग की सिर पर बाँधे


    भावपूर्ण अभिव्यक्ति...आखर प्यास के और पाग आग की बहुत ही सुन्दर प्रयोग है...

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर गीत है पलाश के फूलों के माध्यम से पीढ़ा को बहुत सुन्दरता से अभिव्यक्त किया है सादर,
    अमिता कौंडल

    ReplyDelete
  18. पलाश के फूलों के माध्यम से वर्णित व्यथा का अति सुंदर चित्रण ।

    ReplyDelete
  19. पलाश के फूलों के माध्यम से व्यथा का अति सुंदर चित्रण । आप से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा ऐसी अभिलाषा है ।

    ReplyDelete
  20. पलाश के फूलों के माध्यम से व्यथा का अति सुंदर चित्रण । आप से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा ऐसी अभिलाषा है ।

    ReplyDelete