Monday, February 7, 2011

त्रिपदियाँ


उमेश महादोषी                                                                                                                                                       ||एक ||


मैकू देखे आकाश
पेट पर पड़ी लातों से
ये क्या निकलता है...!


||दो||
आँखों में फूटती जो
भूख भी होती कुछ कम
आँखों झरी रुलाई!


||तीन||
खाई में डूबी आँखें 
देखतीं फिसलते पैर 
चीख फँसी गले में


||चार||
दूसरी औरत है
धर्म निभाती पहली का
ताने खा, पीती आँसू !

-0-

2 comments:

  1. सभी त्रिपदियाँ जीवंत लगीं....

    ReplyDelete
  2. सभी त्रिपदियाँ बहुत अच्छी लगी। उमेश महादोशी जी को बधाई। भाई साहिब किसी दिन त्रिपदिओं का व्याकरण भी समझाईयेगा।

    ReplyDelete