Tuesday, September 28, 2010

पति-महिमा

पति-महिमा
- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'
पति परमेश्वर रहा नहीं ,
पति बना पतंग ।
दिन भर घूमे गली-गली,
बनकर मस्त मलंग ॥
घर में आटा दाल नहीं,
नहीं गैस नहीं तेल ।
पति चार सौ बीस हैं ,
घर को कर दिया फ़ेल ॥
सुबह घर से निकल पड़े,
लौटे हो गई शाम ।
हम घर में घु्टते रहे
छीन लिया आराम ॥
खाना अच्छा बना नहीं ,
यही शिकायत रोज़ ।
पत्नी तपे रसोई में ,
करें पति जी मौज़ ।
एक बात सबसे कहूँ ,
सुनलो देकर ध्यान ।
पति परमेश्वर रहा नहीं ,
पति बना शैतान ॥
पति दर्द समझे नहीं ,
पति कोढ़ में खाज ।
पत्नी का घर-बार है ,
फिर भी पति का राज॥
-0-
इस कविता का अगला भाग क्या हो सकता है ? पढ़ना हो तो मेरी बहिन हरदीप की कविता पढ़िए, इस लिंक पर -http://shabdonkaujala.blogspot.com/2010/09/blog-post_30.html

Friday, September 17, 2010

याद नहीं

याद नहीं
मुमताज़ -टी एच खान


ज़िन्दगी में  उतार-चढ़ाव आया , अब कुछ याद नहीं।
इस दुनिया ने हमें खूब रुलाया , अब कुछ याद नहीं।

अपनों ने हमें पराया बनाया , अब कुछ याद नहीं।
सारी -सारी रात हमें जगाया , अब कुछ याद नहीं।

पीड़ाओं को खूब गले लगाया , अब कुछ याद नहीं।
ज़िन्दगी में हमने धोखा  खाया, अब कुछ याद नहीं।

आपने जबसे हमारे जीवन में  , फैलाई   रोशनी
बीत गए  सब अँधेरे वो कैसे ,  अब  कुछ याद नहीं

Wednesday, September 15, 2010

हमारा वादा है


-मुमताज़ और टी एच खान

आप हमको मिले,
यह हमारा भाग्य था ।
आपने हमको अपनाया,
यह हमारा सौभाग्य था ।
आप वर्षों  बाद फिर मिले,
यह फिर हमारा सौभाग्य है ।
आपसे हमने भाई का स्नेह पाया,
यह आपकी  महानता और  हमारा सौभाग्य है ।
आपको हम जीवन भर खोने नहीं देंगे,
यह आपसे हमारा वादा है।
-0-

Saturday, September 11, 2010

ईद का ये दिन

ईद का ये दिन
-रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’
सबके घर में खुशियाँ लाए , ईद का ये दिन 
प्यार-भरे बादल बरसाए , ईद का ये दिन ॥
घोल न पाए कोई नफ़रत , किसी के दिल में।

पाक़ीज़गी रोज़ बिखराए, ईद का ये दिन ॥

Monday, September 6, 2010

भारतीय नारी

नाम: डा. हरदीप कौर संधु
जन्म: बरनाल़ा (पंजाब)
सम्प्रति: पिछले छह-सात साल से सिडनी (आस्ट्रेलिया) में प्रवास ।
शिक्षा:पी.एच-डी.( बनस्पति विज्ञान)
कार्य : अध्यापन
रुचि:हिन्दी-पंजाबी दोनों भाषाओं का साहित्य पढ़ना, कविता-कहानी लेखन, पेंटिंग, शिल्प कला।


 डॉ हरदीप सन्धु

भारतीय नारी
निभाती है
ऊँची पदवियों से भी
ऊँचे रिश्ते
कभी बेटी ....
कभी माँ बनकर
या फिर किसी की पत्नी बनकर
फिर भी मर्द
ये सवाल क्यों पूछे -
कैसे बढ़ जाएगी
उम्र मेरी ?
तेरे रखे व्रतों से ?
अपनी रक्षा के लिए
अगर आज भी तु
म्हें
 बाँधना है धागा
इस इक्कीसवीं सदी में
तेरा जीने का क्या फ़ायदा ?
सुन लो....
 ओ भारतीय मर्दो
यूँ ही अकड़ना तुम छोड़ो
आज भी भारतीय नारी
करती है विश्वास
नहीं-नहीं....
अन्धा विश्वास
और करती है
प्यार बेशुमार
-
अपने पति
बे
टे या भाई से ।
जिस दिन टूट गया
यह विश्वास का धागा
व्रतों से टूटा
उस का नाता
कपड़ों की तरह
पति बदलेगी
फिर भारतीय औरत
जैसे आज है करती
इश्क़  पश्चिमी औरत
न कमज़ोर
न अबला-विचारी

मज़बूत इरादे रखती
आज भारत की नारी
धागे और व्रतों से
रिश्तों की गाँ
और मज़बूत वह करती
जो जल्दी से न
हीं  खुलती,
प्यार जताकर
प्यार निभाती
भारतीय समाज की
नींव मजबूत बनाती

दो औरत को
उसका प्राप्य स
म्मा
नहीं तो.....
रिश्तों में आई दरार
झेलने के लिए
 हो जाओ तैयार  !!
डॉ हरदीप कौर सन्धु

Sunday, September 5, 2010

HAPPY TEACHER'S DAY.




  
Respected Sir,
Thanks for your guidance and support. When I am in need, you always supported and enlightened me all through. You are a person who always helped me. It is difficult to say in words, how much you are being appreciated. I admire you each moment and just I want to say,"As a GURU, you are unexplainable in words." I thank you once more for everything you have done. Your kind attention touched my mind and heart in many ways. I will remember you in my whole life. Thank you for your caring, lots of other stuff and all the things you gave me. My thank is not enough. May GOD provide me your blessings for a long long.............time.
GURU DEVO BHAVA.
HAPPY TEACHER'S DAY.

 From Mumtaz                                                                                                                                     

Friday, September 3, 2010

भाई बहन का प्यार

भाई बहन के प्यार को आगे बढ़ाने का प्रयास किया शायद आपको पंसद आए ...

गंगा की धार
है बहनों का प्यार
बही बयार। रा०


अधूरा प्यार
शामिल न जिसमें
भाई दुलार। भा०


पावन मन
जैसे नील गगन
नहीं है छोर ।रा०


भाई बहन
चाँद और सितारे
झूमे गगन। भा०


शीतल छाँव
ये जहाँ धरे पाँव
मेरी बहन । रा०


थमी रूलाई
लो परदेस आया
मेरा भी भाई। भा०


भावना