Tuesday, August 10, 2010

दिल का दरिया

जितना बाँटा दिल का दरिया

उतना जीवन हो गया सागर ।

कोई बूँद ले अन्तर क्या है

चाहे कोई भर ले गागर ।

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

6 comments:

  1. छोटी सी सुन्दर रचना के माध्यम से आपने जीवन की सच्चाई को बखूबी प्रस्तुत किया है! उम्दा रचना!

    ReplyDelete
  2. yahi hai gagar mey sagar.badhai....

    ReplyDelete
  3. बहुत बड़ा दिल होता है उनका जिनकी ऐसी सोच होती है.. आजकल तो लोग एक बूँद भी छिपाकर रखते हैं उनको डर जो होता है कहीं उनका दरिया बूँद-२ कर खाली ना हो जाए {कि कहीं कोई उनका काम्पीटीटर ना बन जाये...}
    बहुत प्यारे भाव ...बहुत सारी शुभकामनाएँ ...

    ReplyDelete
  4. Bahut bade DIL valo hain Aap....
    Bade dil vale Jyada jeete hain, Zindagee ko Khoobsarat bna kar doosron ko bhee Ujala dete hain....Aap vahee ho....aur vahee kar rahe ho.!!!!

    ReplyDelete