Thursday, August 5, 2010

तूफ़ान

ज़िन्दगी में अगर कोई तूफ़ान न होता।

तो मेरा ये सफ़र कभी आसान न होता।

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

6 comments:

  1. आप जैसे 'गु्रु'का जब सिर पर हाथ हो
    फिर तो चाहे 'तूफ़ानो' से रोज़ मुलाकात हो

    ReplyDelete
  2. मेरे इन बच्चों पर आए जो तूफ़ान , उससे मैं ही खेलूँगा ।
    ये तूफ़ान तो मेरी ही रुह का हिस्सा है , इसको मैं ही झेलूँगा ।

    ReplyDelete
  3. aadarniy sir,
    bahut hi sateek avam bahut hi preranadayak post .aapne in do aapko panktiyo me jivan ka sara saar de diya.
    aapko hardik pranaam.
    poonam

    ReplyDelete
  4. jine ki icha ko badhati han ye nanhi pankityan... itna to jana...

    ReplyDelete