Monday, January 26, 2009

खून के रिश्ते ।


खून ही पीते रहे ये खून के रिश्ते ।
सदा ही रीते रहे ये खून के रिश्ते ॥

जोंक भी जीती सदा सबको पता कैसे ।
इसी तरह जीते रहे ये खून के रिश्ते ॥

घाव जो खाए भला कब ठीक वे होते ।
शूल से सीते रहे ये खून के रिश्ते ॥

वे समझते हैं हमें रोना नहीं आता ।
अश्क में बीते रहे ये खून के रिश्ते ॥

-रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

5 comments:

  1. बहुत खूब..हर शेर पूरी बात कह रहा है, वाह!!

    आपको एवं आपके परिवार को गणतंत्र दिवस पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  2. bahut bahiya,,,vicharo ka samandat...aur wyakt karne ka tareeka lajawaab.

    ReplyDelete
  3. अति सुंदर रामेश्‍वर जी। बधाई।

    ReplyDelete
  4. अति सुंदर रामेश्‍वर जी। बधाई।

    ReplyDelete
  5. सच कहा आपने ...ये रिश्ते होते ही ऐसे हैं... बहुत सुंदर ...एक से बढ़कर एक... बहुत-बहुत बधाई...

    ReplyDelete