Tuesday, December 2, 2008

रूबाइयाँ

:रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’
25अपना तो दिल है मस्ताना इकले चलते जाएँगे ।
जलने वाले खूब जलें हम हँसते हैं हम गाएँगे ॥
दुनिया बस्ती बनी ठगों की हम किसको अपना कह दें।
जिसका मन होगा सच्चा हम उसको गले लगाएँगे ॥
26
जब से टूक-टूक हो बिखर गया हूँ ।
तब से और भी अधिक निखर गया हूँ।
मेरा ये पश्त मुक़द्दर रहा साथ मेरे
उम्मीदें लेकर मैं जिधर गया हूँ॥
27
बचाके दामन तेरी गली से गुज़र गया हूँ ।
यादों का साया रहा साथ मैं जिधर गया हूँ ॥
देना था सिला क्या चाँद यही मेरी वफ़ा का ।
तेरे दिल से अब न्शे की तरह उतर गया हूँ ॥
28
इस दिल पे तेरे क़दमों के निशान बाक़ी हैं।
महकते हुए ग़ेसुओं की पहचान बाक़ी है॥
हमेंचले गए छोड़कर तुम तो सरे-राह ।
फिर भी तुझे पा लेने के अरमान बाक़ी हैं ॥

29
रहती हैं हर वक़्त नशे में चूर आँखें।
कलेजे तक उतर जाती ये बेक़सूर आँखें ॥
खैर माँगो ख़ुदा से अपनी ज़िन्दगी की ।
हसीन क़यामत हैं ये पुरनूर आँखें ॥
30
डूबते हुए को किनारा ही बहुत है ।
अँधेरी रात में तारा ही बहुत है ॥
एक क्या हज़ार जानें लुटा दें तुझपे हम
कजरारी आँखों का इशारा ही बहुत है ॥

31
इन स्याह ग़ेसुओं में पनाह दे दो।
दिल तक पहुँचने की राह दे दो ॥
ताउम्र रहे दिल में तेरी हसरत ।
नादान दिल को वह ग़ुनाह दे दो॥
32
लिख-लिखकर मेरा नाम मिटाने वाले ।
तन्हाई में छुपकर आँसू बहाने वाले ॥
मेरी रुह की बेकली भला तू क्या जाने ।
यादों के निशान नहीं कभी जाने वाले ॥

5 comments:

  1. लिख-लिखकर मेरा नाम मिटाने वाले ।
    तन्हाई में छुपकर आँसू बहाने वाले ॥
    मेरी रुह की बेकली भला तू क्या जाने ।
    यादों के निशान नहीं कभी जाने वाले ॥

    ये बहुत अच्छा है...


    एक से बढ़कर एक ...बहुत खूब...

    ReplyDelete
  2. जब से टूक-टूक हो बिखर गया हूँ ।
    तब से और भी अधिक निखर गया हूँ।

    सत्य कहा ...सोना जितना तपता है उतना ही और निखरता है...

    यादों के निशान नहीं कभी जाने वाले /

    यादों के निशान कहाँ जाते हैं... वो तो ताउम्र साथ रहते हैं

    ReplyDelete
  3. बहुत खूबसूरत रुबाइयाँ...आपकी रुबाइयाँ सीधे पाठक के दिल की गहराई में उतर जाती हैं...।
    प्रियंका

    ReplyDelete
  4. किस से अपना दु:ख कहें, कलियॉं लहूलुहान।
    माली सोया बाग में, अपनी चादर तान।। kya khub likha hai himanshu jee.thanks.

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत अहसास लिए बहुत ही खूबसूरत रूबाइयाँ! जितनी तारीफ़ की जाए कम है!

    ReplyDelete