Monday, September 15, 2008

बहू की विवशता

बहू की विवशता

-पंचरंगी चीरा बाँध कै

बीरण मेरा घेरों में बैठ्या री

हेरी सासू झटपट दे दे न दूध ,

बीरण मेरा निरणों बासी री।

-        हे बहू इतनी क्यों तारै तावळ

जलै न ल्हासी दे दो री ।

पंचरंगी चीरा…

-हे री तेरी हाण्डी मैं मारूँ ईंट

भूरी पै चोर लगा दूँ री ।

पंचरंगी चीरा……

-        हेरी बहू ऐसे न बोल्लै बोल

-        भेज कै नाँव भी नी लेणे की

पंचरंगी चीरा……

-        हे री मैं नौं भाइयों की बाहण

-        भतीजे मेरे बहुत घणै

पंचरंगी चीरा……

-        हे री वे देंगी अपनी जूठ

-        जली का पेट भरैगा री

पंचरंगी चीरा……

No comments:

Post a Comment