Saturday, September 6, 2008

इस दुनिया में



इस दुनिया में
रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’
धोखे पे धोखा खाने में उम्र निकल गई ।
जब-जब सँभली थी ज़िन्दगी ,तब-तब फिसल गई ॥
xxxxxxxxxxxxxx
सीधे रास्तों पर चलना बहुत कठिन है ।
बर्फ़ के घरों में केवल बची अगन है ॥
xxxxxxxxxxxxxxx
विषधर के काटने पर बचना नहीं है मुश्किल ।
ये आदमी जब काटता तो इलाज़ कौन करे ।।
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
हो धरती पर बिछौना, मिले दो जून रोटी ।
इसके सिवा या रब चाहता नहीं मै कुछ भी॥
xxxxxxxxxxxxxxxxxxx
ज़न्नत का क्या करूँगा ,मैं जोगी इस दुनिया में ।
शिशु की मुस्कान मुझे तो लगती अरदास जैसी ॥
-------------------------------------
ग़ुनहगार बन गए हों,काज़ी जिस शहर में।
इंसाफ का भरोसा कैसे यहाँ करोगे ।
------------------------------------

1 comment:

  1. बहुत उम्दा!!


    --------------------


    निवेदन

    आप लिखते हैं, अपने ब्लॉग पर छापते हैं. आप चाहते हैं लोग आपको पढ़ें और आपको बतायें कि उनकी प्रतिक्रिया क्या है.

    ऐसा ही सब चाहते हैं.

    कृप्या दूसरों को पढ़ने और टिप्पणी कर अपनी प्रतिक्रिया देने में संकोच न करें.

    हिन्दी चिट्ठाकारी को सुदृण बनाने एवं उसके प्रसार-प्रचार के लिए यह कदम अति महत्वपूर्ण है, इसमें अपना भरसक योगदान करें.

    -समीर लाल
    -उड़न तश्तरी

    ReplyDelete