Friday, September 12, 2008

बिदाई गीत -2


बिदाई गीत -2
पिताजी काहे को ब्याही परदेस
हम तो पिताजी थारे झाम्बे की चिड़िया
डळा मारै उड़ जाएँ ,
काहे को ब्याही परदेस
हम तो पिताजी थारे खूँटे की गउँवाँ
जिधर हाँको हँक जाएँ ,
काहे को ब्याही परदेस
हम तो पिताजी थारे कमरे की ईंटें,
जिधर चिणों चिण जाएँ,
 काहे को ब्याही परदेस…

No comments:

Post a Comment