Friday, August 22, 2008

सत्य

सत्य
सत्य केवल एक होता है,
इसलिए अकेला होता है ।
सत्य दो नहीं होते ;
इसलिए सत्य का
कोई सफ़र का साथी नहीं होता ।
उसे सारा सफ़र
अकेले ही तय करना होता है ।
कोई बन्धु ,
कोई मित्र,
कोई सगा
उसके साथ चलना
पसन्द नहीं करता ।

-रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’
22-8-2008

1 comment:

  1. सत्य केवल एक होता है,
    इसलिए अकेला होता है

    और अकेला ही विजयी होता है :-)

    मंजु

    ReplyDelete