Wednesday, July 23, 2008

कलियुगी एकलव्य


कलियुगी एकलव्य
कलियुग में बोले द्रोणाचार्य एकलव्य से-
'प्रसन्न हूँ तुम्हारी भक्ति से
जो चाहते सो माँगो ।'
एकलव्य बोला –'गुरुदेव ,
यदि प्रसन्न हैं मुझसे
तो एक काम कीजिए-
द्वापर में आपने
कटवाया था  अँगूठा
यह कलियुग है
अपना दायाँ हाथ
काटकर दे दीजिए ।
-रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'



No comments:

Post a Comment