Tuesday, January 1, 2008

नव वर्ष








रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’
सागर में सब आँसू
बहाकर आ गया ।
सैलाब रौशनी का
जगाकर आ गया ।
किरनों के उजले रथ
पर होकर सवार ,
गागर सुधारस का
छलकाकर आ गया।
पर्वतों- घाटियों में
उछलता –कूदता ,
रूप-नदी में गोता
लगाकर आ गया ।
गुनगुनी धूप बनकर
आँगन में उतरा ;
नव वर्ष सब दूरियाँ
मिटाकर आ गया ।
…………………………
31-12-2007

2 comments:

  1. 'हिमांशु' जी की सुंदर रचना के लिए धन्यवाद।
    नया वर्ष आप सब के लिए शुभ और मंगलमय हो।
    महावीर शर्मा

    ReplyDelete
  2. कविता बहुत अच्छी लगी ।
    नववर्ष की शुभकामनाएँ ।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete