Tuesday, May 1, 2007

बहुत बोल चुके

बहुत बोल चुके

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

बहुत बोल चुके अब न बोलो
अपने मन की गाँठ न खोलो ।

गाँठ खोलकर अब तक तुमने
जितना भी था सभी गँवाया ।
मेरे यार ज़रा बतलादो
बदले में तुमने क्या पाया ?

बहुत तोल चुके अब न तोलो।

जिनको अब तक तुमने तोला
उन सबको पाया है पोला ।
वार किया उसने ही छुपकर
जिसको तुमने समझे भोला ।।

अब सबके मन अमृत न घोलो ।

अमृत घोला जिसके मन में
उसका मन विष-बेल हो गया ।
धोखा देकर खिल-खिल हँसना
उन लोगों का खेल हो गया ।।

बहुत बोल चुके अब न बोलो
अपने मन की गाँठ न खोलो ।
…………………………