Thursday, March 15, 2007

इंसान की बातें

इंसान की बातें

आदमी को चुभ रही इंसान की बातें ।
आज लगती तीर –सी ईमान की बातें ॥

जो किनारों पर रहे तूफ़ान के डर से ।
आज वे करने लगे तूफ़ान की बातें ॥

हर दिन बाज़ार में काम उनका बेचना ।
हर जगह भाती उन्हें दूकान की बातें ॥

जो अर्से तक रहे यहाँ अर्दली बनकर ।
आज वे करने लगे पहचान की बातें ॥

भूख से दम तोड़ती चिथड़ों बँधी गठरी ।
पेट क्या उसका भरें भगवान की बातें ॥

यार से पूछी कुशल घर –गाँव की हमने ।
उसने कही लाश की ,किरपान की बातें ॥

………………

No comments:

Post a Comment