Thursday, October 30, 2014

पौधा



डॉ ०सुधेश
 
        मैं सड़क के बीच का पौधा
         किस ने लगाया
         किस अभागे समय,
         आने वालों जाने वालों को
         बस देखता हूँ
         जगत भी आवागमन का सिलसिला
         कारों तिपहिया वाहनों ट्रकों
         से निकलते ज़़हर में साँस लेते
          मेरे पत्ते काले पड़ गए हैं
          खिली दो चार कलियों ने
          फूल बनने से किया इंकार
           फिर कहाँ फूलों की हँसी
          कहाँ मादक गन्ध
          मेरी सुरभि का कोष
            लूटा सभ्यता की दौड़ ने
           जैसे दिन दहाड़े लुट गया
           सड़क का आदमी
           सड़क के बीचों बीच ।
मैं अगर खिलता
फैले कार्बन को सोख
क्सीजन लुटाता
पर्यावरण सौन्दर्य में
कुछ वृद्धि करता
पर मैं अभागा
सड़क के बीचोंबीच
केवल मूक दर्शक
बन गया हूँ
जैसे सड़क का आदमी ।
-0-

Thursday, October 23, 2014

दीप बने बाराती




डॉ हरदीप सन्धु
1

दीवाली रात 

दीप बने बाराती 

झूमे आँगन। 


2

मिट्टी का दिया 

चप्पा -चप्पा बलता 

बिखरती लौ। 

3

दीवट दिया 

भीतर औ बाहर 

घर रौशन। 
-0- 
ज्योत्स्ना प्रदीप
1
रात में भोर
दीपों का जमघट
क्रांति की ओर॥
2
न जात-पात
न देखे दिन- रात
दीप तो जले।
3
सहमा तम
दीपक तले छुपा
कुछ रूआँसा ।
-0-




Friday, October 17, 2014

जीवन के सपने



1-डॉ सुधा गुप्ता
1
 चौबीसों घण्टे
पागल-सा नाचता
मैट्रो शहर ।
2
हर रात को
ज़ख्मी कर छोड़ता
कोई हादसा ।
3
महानगर
मातृत्व बोझ बना
जन्म दे, फेंका ।
4
महानगर
लुटेरों की दुनिया
खोई मुनिया ।
5
कैसा त्योहार
मोबाइल ने किया
जीना दुश्वार ।
6
जाने क्या खोया
हर पल खोजता
महानगर ।
7
बदहवास
फिरकी सा घूमता
मेरा शहर ।
8
मौत झपट्टा
जीवन के सपने
खाक़ में मिले ।
-0-
2-ज्योत्स्ना शर्मा
1
जिए जा रहा
ले के पीड़ा नगर
गाँव की घनी ।
2
बने जो रिश्ते
समझ ही न आया
कौन पराया ।
3
सजे सपने
शहरी धूल -धानी
हुए अपने ।
4
दिल तो वही
शहर में लगाया
गाँव से आया ।
5
घर से दूर
अनगिन उम्मीदें
बसा शहर ।
-0-
3-सुभाष लखेड़ा
1
मेरा शहर
जागता रहता है
आठों पहर।
2
शहर आया
मैंने देखे सपने
खोये अपने।
3
भीड़ के बीच
शहर का इंसान
बना सामान।
-0-
4-ज्योत्स्ना 'प्रदीप'
1
पढ़े हथेली
ऊँचे से भवनों की
नभ-ज्योतिषी।
2
पल में बनी
छोटी -सी बालकनी
पुष्प वाटिका।
3
हवा हया से
हुई बेहाल ,देख
मेट्रो की चाल।
4
पिता -से पालें
ये विश्वविद्यालय
नए-उजाले ।
-0-
5- रामेश्वर काम्बोज हिमांशु
आँखों में ख्वाब
सुनहरे कल के
जागे शहर ।
-0-
6-प्रियंका गुप्ता
1
शहर ने दी
सपनों की उड़ान
सूर्य तलक ।
-0-


7-अनिता ललित

1

है हड़ताल!
ग़रीब के पेट का
पूछो न हाल।

2

बढ़ी है भीड़

हुआ है चक्का जाम
छाया आक्रोश


3

सुर्ख़ी में छाए
डॉक्टरों के धरने,
जीवन  लीलें


4
संवेदनहीन
शहर की गलियाँ
सुनें न पीर।
5
छूटता साथ,
हंगामा -भगदड़
शहरी बात।
-0-